27/09/2015

कौन कहता है हमे देश याद नहीं आता

Taken on Pier 39, opposite Ghireradelli chocolate factory.
This pic is attached here in a sense ki desh yaad aata hain
to boat se tair ke ghar jaane ka man ho jata hoga to shayad
thoda emotional connect lage hahahah !
Please pardon me !

कौन कहता है हमे देश याद नहीं आता
हर रोज़ आता है सुबह छो बजे
क्योंकि अब दरवाजे पर कोई घंटी बजाने वाला नहीं है
रोज़ सुबह काम वाली बाई की वोह मीठी मीठी बातें, उफ़

आज तक से भी तेज अपार्टमेंट की गॉसिप्स
और ड्राई फ्रूट्स और घी पॉट की मॉनिटरिंग
अजी  नहीं रहे वोह खेल अब हमारे
और उससे जो टेस्टोस्टेरोन की डोज़ मिलती थी वोह भी नहीं रही

अब क्या बताएं कितनी याद आती है  वोह
एंटरटेनमेंट से भरपूर बाई
हर  वाइफ का नेशनल स्पोर्ट होता है
उसकी काम वाली बाई

हमे मिला क्या इस देश में  ?
एक नीरस डिशवाशर और वैक्यूम क्लीनर
लानत है !

सुबह उठने के बाद कोई ताजे  दूध का पैकेट पहुँचाने वाला  नहीं है
अब कोई सुबह साढ़े पांच पर यह पूछने वाला नहीं है
की मैडम वोह कूपन तो आपने नहीं रखा है
पर झोला रखा है, दूध देना है ना

अब कोई बालकनी में उत्पात मचाने वाला नहीं है
क्यूंकि जनाब इस शहर मे तो बन्दर या तो टीवी पे या जू में दीखे हैं
इंडिया की  तरह कौन फ्लोरा फौना का सीमलेस इंटीग्रेशन कर पाया है
वोह भी अर्बन लैंडस्केप में?

बोलो बोलो !

अजी ख़बरों की तो पूछिये ही मत

इ ससुरा ऐप के नोटिफिकेशन्स ने जान ले राखी है
चुन्ने चुन्ने बॉक्स में स्क्रॉल डाउन करी जाओ, धत !
अपने घर के करारे अखबार की बात ही कुछ और होती थी

वोह सुबह उठ के जल्दी से अख़बार उठाने का एडवेंचर अगल ही था
नहीं तो बैचलर्स कब कोबरा  बन आपका पेपर डस ले, कौन दया जनता है ?
ढेरों रद्दी इकट्ठी करना
और उसके पैसो से मनी प्लांट खरीदना, अब कहाँ !

हाँ अमेरिका में एक चीज़ का सीमलेस इंटीग्रेशन है
जी हाँ और वोह प्राणी है कुत्ता
बैंगलोर में २५० में से २ फॅमिली के पास कुत्ता था
जिसे हम पूरे होशो हवास में धड़ल्ले से कुत्ता कह देते थे

की वोह देखो आ गये दोनो
और यहाँ २०० में से २ फैमिली के पास पूच नहीं है
एक हुए हमारे ई सिन्हा जी और एक ऊ गर्दनीबाग वाले चिंटू जी
और खबरदार जो आपने कुत्ते को कुत्ता कहा

माशाल्लाह पहले जनाब का नाम तो पूछिये कायदे से
जैसे बचपन में आपके  कानपुर वाले मौसा पूछा करते थे
फिर उम्र और फिर ब्रीड
एहि हुआ अमेरिकन्स से दोस्ती गाड़ने का फर्स्ट स्टेप

भुजे लू !

To be continued... Read Part 2 here

4 comments:

  1. This is by far your best. Was a good read on a night slowly chewed up by insomnia. Keep them coming my friend.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Are you serious ? This is just @## .... anyways thanks for reading it till the end. I am sure it assisted in your falling asleep- that says a lot hahaha !

      Keep reading us !

      Delete
  2. awesome dost...ab mujhe sahi feel aayegi amerika ka :) courtesy you :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yaar second part padhna, usmain kuch masala jyaada hai, coming soon !

      Delete